संस्कृति रक्षा -शक्ति संचय -सेवा कार्य

आर्य वीरांगना दल

कृण्वन्तो विश्वमार्यम्” (विश्व को आर्य बनाते चलो)

-महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती

आर्य वीरांगना दल सूचनाएं

आर्य वीरांगना दल शिविर सूचनाएं

आर्य वीरांगना दल शिविर की सूचनाओं को पाने के लिए

आर्य वीर दल शिविर सूचनाएं

आर्य वीर दल शिविर की सभी सूचनाओं को पाने के लिए

आने वाले कार्य क्रम

आर्य वीरांगन दल शिविर

आने वाले आर्य वीरांगना योग एवं चरित्र निर्माण शिविर के सभी सूचनाएं यहाँ से जानें

आर्य वीरांगनादल दल के उद्देश्य

1- संस्कृति रक्षाः– वेद का ज्ञान सृष्टि के आरम्भ में समस्त प्राणियों के कल्याण हेतु ईश्वर ने मनुष्यों को दिया। इसीलिये हमारी संस्कृति वेदों पर आधारित है। यह वैदिक संस्कृति विश्व में सबसे प्राचीन है। इसी संस्कृति का अनुसरण करते हुये विभिन्न ट्टषि-मुनियों, मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम, योगीराज श्रीकृष्ण, ब्रह्मचारी हनुमान, नीतिज्ञ चाणक्य, गुरु गोविन्द सिंह, महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, महर्षि दयानन्द सरस्वती आदि अनेक महापुरुषों ने जीवन की उत्कृष्टता को प्राप्त……

आर्य वीरांगना दल फोटो गैलरी